No icon

योगी के बुलडोजर का आतंक, अवैध कब्जों को खुद तोड़ने में लग गये माफिया

चौपाल न्यूज नेटवर्क
गाजीपुर
उत्तर प्रदेश सरकार का पिछले कुछ महीनों से माफिया सम्पत्ति को ध्वस्त करने की जो मुहिम चल रही है, उसका असर अब देखने को मिल रहा है। माफिया और उनके गुर्गों में योगी आदित्यनाथ के बुलडोजर का भय इस कदर व्याप्त है कि वो अपने अवैध निर्माण को अब खुद ही गिराने लग रहे हैं। गाजीपुर जिले के शम्मे हुसैनी कॉलेज के डायरेक्टर आजम कादरी एक बार फिर सुर्खियों में है। बीते दिनों आजम कादरी का शम्मे हुसैनी अस्पताल और मेडिकल कालेज एनजीटी के नियमों का हवाला देते हुए प्रशासन ने जमींदोज कर दिया था। अब कादरी के एक होटल पर भी ऐसा ही फरमान पहुंचा तो प्रशासन की किसी कार्रवाई के डर से उन्होंने खुद अवैध निर्माण को तोड़ने का काम शुरू कर दिया। कादरी मुख़्तार अंसारी के करीबियों में से हैं और मुख्तार के बड़े भाई के लिए वोटों की लॉबिंग करते रहे हैं।
आज़म कादरी ने दो साल पहले जनपद के रौजा इलाके में एक होटल खरीदा था। होटल खरीदने के बाद वह यहां कुछ निर्माण करवा रहे थे। इसी बीच मास्टर प्लान ने उनके होटल बिल्डिंग के कुछ हिस्से को चिन्हित कर तोड़ने का नोटिस दिया। नोटिस में मास्टर प्लान की अवहेलना का हवाला दिया गया था। पिछले दिनों कादरी के अस्पताल तोड़े जाने से डरे उनके परिवार ने बिना देरी के नोटिस के अनुसार होटल के अवैध हिस्से को गिराना शुरू कर दिया।
इससे पहले एसडीएम प्रभाष कुमार ने 8 अक्टूबर को कादरी के गंगा किनारे बने शम्मे हुसैनी अस्पताल को एनजीटी के नियमों का हवाला देकर तोड़ने का आदेश दिया था। कादरी परिवार ने इस फैसले को जिलाधिकारी के यहां चुनौती दी थी। जिलाधिकारी की अध्यक्षता वाले 8 सदस्यों की बोर्ड ने एसडीएम कोर्ट के ही फैसले पर मुहर लगा अस्पताल और उसी परिसर से संचालित मेडिकल कालेज को गिराने का निर्णय सुनाया था।

Comment As:

Comment (0)