No icon

देश के पांच राज्यों में सबसे ज्यादा कोरोना का कहर

चौपाल न्यूज नेटवर्क
कोरोना का खतरा दुनिया के साथ-साथ भारत में भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। हाल-फिलहाल त्यौहारी मौसम में सड़क, बाजार में भीड़ आम दिनों की तरह देखने को मिल रही है। इस वजह से कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज मीडिया से रूबरू हुआ। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना का सबसे बड़ा खतरा देश के पांच राज्यों में मंडरा रहा है। केरल, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, कर्नाटक और दिल्ली में त्योहारों की वजह से कोरोना संक्रमण के मामले बढ़े हैं। हालांकि, राहत की बात ये है कि पिछले पांच हफ्तों में कोरोना से मृत्यु दर में गिरावट देखने को मिली है। बावजूद इसके खतरा जस का तस बना हुआ है।

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने संवाददाताओं से बात करते हुए बताया कि पिछले 24 घंटों में कोरोना के 49.4 प्रतिशत मामले अकेले केरल, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, कर्नाटक और दिल्ली से सामने आए हैं। त्यौहारी मौसम भी इसका बड़ा कारण हो सकता है। उन्होंने कहा कि यह बेहद चिंता का विषय है। स्वास्थ्य मंत्रालय अधिक खतरे वाले इन पांच राज्यों की सरकारों से लगातार संपर्क में है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के कुल एक्टिव केस के 78 प्रतिशत तो देश के 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में ही हैं।
स्वास्थ्य सचिव में बताया कि पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से हुई मौतों के 58 प्रतिशत मामले पांच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में देखने को मिले हैं। इनमें महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक शामिल है। हालांकि, पिछले पांच हफ्तों से कोविड-19 से मौत का ग्राफ भारत में नीचे गया है। गौरतलब है कि भारत में कोरोना की चपेट में आने से अब तक एक लाख से भी ज्यादा मौतें हो चुकी हैं तथा यह अनुमान लगाया जा रहा है कि आने वाले दिनांे में कोरोना का खतरा अभी और बढ़ सकता है। 

Comment As:

Comment (0)